Ads

समृद्ध होंना । to prosper


 समृद्ध होंना


"व्यवस्था की यह पुस्तक तेरे चित्त से कभी न उतरने पाए, इसी में दिन रात ध्यान दिए रहना, इसलिये कि जो कुछ उस में लिखा है उसके अनुसार करने की तू चौकसी करे; क्योंकि ऐसा ही करने से तेरे सब काम सफल होंगे, और तू प्रभावशाली होगा।….." (यहोशू 1:8)


यहोशू की पुस्तक के द्वारा यहोवा हमें एक अद्भुत भेद के विषय में बता रहा है। आपके लिए अपने तरीके से समृद्ध होने की क्या शर्त है? यहोवा ने आदेश दिया है कि व्यवस्था की पुस्तक कभी भी तुम्हारे मुंह से नहीं उतरनी चाहिए। उस पर दिन रात ध्यान करना, और जो कुछ उस में लिखा है उसके अनुसार करने के लिये चौकस रहना।


कई लोग हैं जो इस बात से निराश हैं कि उन्हें कई प्रयासों के बाद भी अपनी बेटी के लिए उपयुक्त वर नहीं मिल रहा है। या कि उनका बेटा लंबी तलाश के बाद भी नौकरी नहीं पा रहा है।


पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि वह जो कुछ भी करेगा वह समृद्ध होगा (भजन 1:3)। लेकिन किसकी राहें कामयाब होंगी? पवित्रशास्त्र स्पष्ट करता है: “परन्तु वह तो यहोवा की व्यवस्था से प्रसन्न रहता; और उसकी व्यवस्था पर रात दिन ध्यान करता रहता है। वह उस वृक्ष के समान है, जो बहती नालियों के किनारे लगाया गया है। और अपनी ऋतु में फलता है, और जिसके पत्ते कभी मुरझाते नहीं। इसलिये जो कुछ वह पुरूष करे वह सफल होता है॥” (भजन 1:2,3)।


हो सकता है कि आप दायित्व की भावना से अब तक अपनी बाइबल पढ़ रहे हों। आपको अपनी बाइबल में गहराई से ध्यान देना चाहिए, ताकि आपके सभी रास्ते समृद्ध हों। उसके वचनों पर मनन करने के लिए समय निकालें और प्रभु निश्चित रूप से आपके मार्ग को समृद्ध बनाएगा।


जब हम राजा उज्जिय्याह के जीवन को देखते हो, तो परमेश्वर ने उसे तब तक समृद्ध किया, जब तक वह यहोवा को ढूंढ़ता रहा (2 इतिहास 26:5)। बहुत से लोगों के तरीके समृद्ध नहीं हैं, क्योंकि वे प्रभु को खोजने के बजाय अपनी प्रतिभा, अपनी शिक्षा, अपने धन और प्रभावशाली व्यक्तियों के अनुग्रह पर भरोसा करने की कोशिश करते हैं। परमेश्वर के लोगो को हमेशा परमेश्वर की तलाश करनी चाहिए और उनके वचनों पर ध्यान देना चाहिए।


आपके समृद्ध होने के तरीकों के लिए, प्रभु को खोजने और उनके वचनों पर मनन करने के अलावा, एक और काम है जो आपको करना चाहिए - वह है केवल पूरी तरह से उस पर भरोसा करना।


परमेश्वर के लोगो, जब आप पूरी तरह से परमेश्वर पर भरोसा करते हैं, तो आप अपने दिल में कभी नहीं डरेंगे कि कोई चीज समृद्ध होगी या नहीं। आप कभी भी भयभीत नहीं होंगे कि आपकी जरूरत पूरी होगी या नहीं। और हमारा हृदय पूर्ण विश्वास के साथ यहोवा की शान्ति से बाट जोहेगा।


आज के मनन के लिए पद: "मैं ने, हां मैं ही ने कहा और उसको बुलाया है, मैं उसको ले आया हूं, और, उसका काम सफल होगा।" (यशायाह 48:15)।


आज की बाइबिल पढ़ने


सुबह    - निर्गमन : 31,32,33

संध्या    - मत्ती : 22:1-22

0 Response to " समृद्ध होंना । to prosper"

Post a Comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel