Ads

ध्यान । Attention


 ध्यान



"मेरा ध्यान करना, उसको प्रिय लगे, क्योंकि मैं तो यहोवा के कारण आनन्दित रहूंगा।" (भजन संहिता 104:34)

आध्यात्मिक प्रगति के लिए ध्यान एक महान अभ्यास है, और आध्यात्मिक प्रयासों के बीच इसका एक विशेष स्थान है। उनके अनुभव से, हम देखते हैं कि दाऊद परमेश्वर के बारे में ध्यान की मिठास के बारे में साझा करते हैं। परमेश्वर के लोगो के लिए ध्यान का जीवन बहुत महत्वपूर्ण है। यह आपके विचारों और आपके जीवन को समृद्ध और सक्रिय करने में मदद करता है।


आपको यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि किसी व्यक्ति की सफलता या असफलता उसके विचार और दिमाग से शुरू होती है। जब कोई प्रभु का ध्यान करने में विफल रहता है, तो शैतान उस व्यक्ति का फायदा उठाता है और कई बुरे और वासनापूर्ण विचार रखता है। वह कई पापपूर्ण कल्पनाओं में लाता है और उन्हें उनकी वासनाओं को पूरा करने के लिए प्रलोभित करता है।


सभी संत जिन्हें हम पवित्रशास्त्र में देखते हैं, उन्होंने अपना अधिकांश समय परमेश्वर के वचन पर ध्यान करने में बिताया। हम देखते हैं कि शाम को इसहाक मैदान में ध्यान करने के लिए निकला जाता था। (उत्पत्ति 24:63)।


जब दाऊद अपने ध्यान के बारे में लिखता है, तो वह कहता है: "मेरी आंखें रात के एक एक पहर से पहिले खुल गईं, कि मैं तेरे वचन पर ध्यान करूं।" (भजन संहिता 119:148)। ध्यान और प्रार्थना आपकी आत्मा की शक्ति हैं। और ध्यान आपको प्रभु से बांधता है।


इससे पहले कि इस्राएली कनान देश के अधिकारी हो पाते, यहोवा ने यहोशू को व्यवस्था की पुस्तक पर मनन करने का निर्देश दिया। "व्यवस्था की यह पुस्तक तेरे चित्त से कभी न उतरने पाए, इसी में दिन रात ध्यान दिए रहना, इसलिये कि जो कुछ उस में लिखा है उसके अनुसार करने की तू चौकसी करे; क्योंकि ऐसा ही करने से तेरे सब काम सफल होंगे, और तू प्रभावशाली होगा। " (यहोशू 1:8)।


जरा इस पद पर विचार कीजिए। कनान देश में यहोशू के साम्हने बहुत से युद्ध के मैदान पड़े थे। उसे सात राष्ट्रों और कनान के इकतीस राजाओं से युद्ध करना पड़ा। जबकि इन सभी लड़ाइयों के लिए शारीरिक शक्ति महत्वपूर्ण थी, उसके लिए अपने मन और आत्मा में मजबूत होना और भी महत्वपूर्ण था। और इस तरह की ताकत पाने के लिए प्रभु की विधियो पर ध्यान उनके लिए मुख्य माध्यम था। परमेश्वर के लोगो, जागरूक रहें और इस बात को माने कि ध्यान का जीवन आशीर्वाद से भरा जीवन है, और उसके अनुसार कार्य करें।


आज के मनन के लिए पद: "मेरा हृदय अन्दर ही अन्दर जल रहा था। सोचते सोचते आग भड़क उठी; तब मैं अपनी जीभ से बोल उठा;" (भजन संहिता 39:3)।


आज की बाइबिल पढ़ने


सुबह    - लैव्यवस्था : 4,5

संध्या    - मत्ती : 24:29-51

0 Response to "ध्यान । Attention"

Post a Comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel