Ads

अभिषेक का तेल । anointing oil


 अभिषेक का तेल



"और इस्त्राएलियों को मेरी यह आज्ञा सुनाना, कि वह तेल तुम्हारी पीढ़ी पीढ़ी में मेरे लिये पवित्र अभिषेक का तेल होगा।" (निर्गमन 30:31)।


यहोवा ने मूसा को निर्देश दिया कि उनके निवासस्थान और उसके सब सामान का पवित्र तेल से अभिषेक किया जाए। यह निर्देश छुटकारे से संबंधित सभी मामलों में पवित्र आत्मा की पूर्ण भागीदारी का पूर्वाभास है। अभिषेक का पवित्र तेल कोई साधारण तेल नहीं है, बल्कि एक विशेष तरीके से तैयार किया गया है, जो स्पष्ट निर्देशों के अनुसार यहोवा ने मूसा को दिया था।


इसकी तैयारी के संबंध में, हम पवित्रशास्त्र में इस प्रकार पढ़ते हैं: "तू मुख्य मुख्य सुगन्ध द्रव्य, अर्थात पवित्रस्थान के शेकेल के अनुसार पांच सौ शेकेल अपने आप निकला हुआ गन्धरस, और उसका आधा, अर्थात अढ़ाई सौ शेकेल सुगन्धित अगर, और पांच सौ शेकेल तज, और एक हीन जलपाई का तेल ले कर उन से अभिषेक का पवित्र तेल, अर्थात गन्धी की रीति से तैयार किया हुआ सुगन्धित तेल बनवाना; यह अभिषेक का पवित्र तेल ठहरे।" (निर्गमन 30:23-25)।


सबसे पहले, 'लोहबान' एक तेज चाकू से चीरने पर पेड़ से निकलने वाली राल है। यह अश्रुपूर्ण प्रार्थना के समान है जो एक टूटे हुए हृदय से निकलती है। दूसरे, 'सुगंधित दालचीनी' अच्छी सुगंध से भरपूर होती है। यह आपको याद दिलाता है कि आपको अपने जीवन में हमेशा मसीह की मीठी-महक वाली सुगंध रहनी चाहिए।


तीसरा, 'सुगंधित बेंत' या 'कैलमस'। यह एक जड़ी बूटी है जो बोलने में कठिनाई को ठीक करती है। जब इसे बच्चों की जीभ पर लगाया जाता है, तो यह भाषा के विकास में मदद करता है। यह हमें अन्य भाषाओं में बोलने की आवश्यकता की याद दिलाता है। चौथा, अभिषेक के पवित्र तेल की तैयारी में 'कैसिया' मिलाना चाहिए। यह तेज पत्ता की छाल है, और यह हमारे जीवन में अदूरदर्शिता को बदलने और दूर करने की आवश्यकता को दर्शाता है।


जब इन चारों सामग्रियों में जैतून का तेल मिला दिया जाता है, तो वह अभिषेक के पवित्र तेल में बदल जाता है। वह तेल परमेश्वर के सेवक में पाए जाने वाले गुणों को प्रकट करता है। परमेश्वर की लोगो, आपके लिए पवित्र आत्मा द्वारा ग्रहण किया जाना और पवित्रता की ओर निरंतर प्रगति करना सबसे आवश्यक है।


आज के मनन के लिए: "फिर यहोशू ने प्रजा के लोगों से कहा, तुम अपने आप को पवित्र करो; क्योंकि कल के दिन यहोवा तुम्हारे मध्य में आश्चर्यकर्म करेगा।" (यहोशू 3:5)।


आज की बाइबिल पढ़ने


सुबह    - निर्गमन : 29,30

संध्या    - मत्ती  : 21:23-46

0 Response to " अभिषेक का तेल । anointing oil"

Post a Comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel